Monday , May 17 2021

Daag Dehalvi Category

Fire Raah Se Wo Yaha Aate Aate – Daag Dehalvi

फिरे राह से वो यहाँ आते आते अजल मेरी रही तू कहाँ आते आते मुझे याद करने से ये मुद्दा था निकल जाए दम हिचकियां आते आते कलेजा मेरे मुंह को आएगा इक दिन यूं ही लब पे आह-ओ-फ़ुगां आते आते नतीजा न निकला थके सब पयामी वहाँ जाते जाते …

Read More »

Aarzoo Hai Wafa Kare Koi – Daag Dehalvi

आरजू है वफ़ा करे कोई जी न चाहे तो क्या करे कोई गर मर्ज़ हो दवा करे कोई मरने वाले का क्या करे कोई कोसते हैं जले हुए क्या क्या अपने हक़ में दुआ करे कोई उन से सब अपनी अपनी कहते हैं मेरा मतलब अदा करे कोई तुम सरापा …

Read More »

Dard Ban Ke Dil Me Aana – Daag Dehalvi

दर्द बन के दिल में आना , कोई तुम से सीख जाए जान-ए-आशिक़ हो के जाना , कोई तुम से सीख जाए हमसुख़न पर रूठ जाना , कोई तुम से सीख जाए रूठ कर फिर मुस्कुराना, कोई तुम से सीख जाए वस्ल की शब[1] चश्म-ए-ख़्वाब-आलूदा[2] के मलते उठे सोते फ़ित्ने[3] को जगाना,कोई तुम …

Read More »

Kaabe Ki Hai Hawas Kabhi Ku-e-buta Ki Hai – Daag Dehalvi

काबे की है हवस कभी कू-ए-बुतां की है मुझ को ख़बर नहीं मेरी मिट्टी कहाँ की है कुछ ताज़गी हो लज्जत-ए-आज़ार के लिए हर दम मुझे तलाश नए आसमां की है हसरत बरस रही है मेरे मज़ार से कहते है सब ये कब्र किसी नौजवां की है क़ासिद की गुफ्तगू …

Read More »

Kya Kahiye Kis Tarah Se Jawani Guzar Gayi – Daag Dehalvi

क्या कहिये किस तरह से जवानी गुज़र गई बदनाम करने आई थी बदनाम कर गई । क्या क्या रही सहर को शब-ए-वस्ल की तलाश कहता रहा अभी तो यहीं थी किधर गई । रहती है कब बहार-ए-जवानी तमाम उम्र मानिन्दे-बू-ए-गुल इधर आयी उधर गई । नैरंग-ए-रोज़गार से बदला न रंग-ए-इश्क़ …

Read More »

Yaad – Daag Dehalvi

आती है बात बात मुझे याद बार बार कहता हूं दोड़ दोड़ के कासिद से राह में

Read More »