Firaq Gorakhpuri

Zer O Bam Se Saaz E Khilqat Ke Jahaan Bantaa Gayaa Firaq Gorakhpuri Ghazals

ज़ेर-ओ-बम से साज़-ए-ख़िलक़त के जहाँ बनता गया ये ज़मीं बनती गई ये आसमाँ बनता गया दास्तान-ए-जौर-ए-बेहद ख़ून से लिखता रहा क़तरा क़तरा अश्क-ए-ग़म का बे-कराँ बनता गया इश्क़-ए-तन्हा से हुईं आबाद कितनी मंज़िलें इक मुसाफ़िर कारवाँ-दर-कारवाँ बनता गया मैं तिरे जिस ग़म को अपना जानता था वो भी तो ज़ेब-ए-उनवान-ए-हदीस-ए-दीगराँ बनता गया बात निकले बात से जैसे वो था तेरा बयाँ नाम तेरा दास्ताँ-दर-दास्ताँ बनता गया...

Zindagii Dard Kii Kahaanii Hai Firaq Gorakhpuri Ghazals

ज़िंदगी दर्द की कहानी है चश्म-ए-अंजुम में भी तो पानी है बे-नियाज़ाना सुन लिया ग़म-ए-दिल मेहरबानी है मेहरबानी है वो भला मेरी बात क्या माने उस ने अपनी भी बात मानी है शोला-ए-दिल है ये कि शोला-साज़ या तिरा शोला-ए-जवानी है वो कभी रंग वो कभी ख़ुशबू गाह गुल गाह रात-रानी है बन के मासूम सब को ताड़ गई आँख उस की बड़ी सियानी है आप-बीती कहो कि जग-बीती हर कहानी मिरी कहानी है दोनों आलम हैं जिस के ज़ेर-ए-नगीं...

Tumhen Kyuunkar Bataaen Zindagii Ko Kyaa Samajhte Hain Firaq Gorakhpuri Ghazals

तुम्हें क्यूँकर बताएँ ज़िंदगी को क्या समझते हैं समझ लो साँस लेना ख़ुद-कुशी करना समझते हैं किसी बदमस्त को राज़-आश्ना सब का समझते हैं निगाह-ए-यार तुझ को क्या बताएँ क्या समझते हैं बस इतने पर हमें सब लोग दीवाना समझते हैं कि इस दुनिया को हम इक दूसरी दुनिया समझते हैं कहाँ का वस्ल तन्हाई ने शायद भेस बदला है तिरे दम भर के मिल जाने को हम भी क्या समझते हैं उमीदों में भी उन की एक शान-ए-बे-नियाज़ी है हर...

Tuur Thaa Kaaba Thaa Dil Thaa Jalva Zaar E Yaar Thaa Firaq Gorakhpuri Ghazals

तूर था का’बा था दिल था जल्वा-ज़ार-ए-यार था इश्क़ सब कुछ था मगर फिर आलम-ए-असरार था नश्शा-ए-सद-जाम कैफ़-ए-इंतिज़ार-ए-यार था हिज्र में ठहरा हुआ दिल साग़र-ए-सरशार था अलविदा’अ ऐ बज़्म-ए-अंजुम हिज्र की शब अल-फ़िराक़ ता-बा-ए-दौर-ए-ज़िंदगानी इंतिज़ार-ए-यार था एक अदा से बे-नियाज़-ए-क़ुर्ब-ओ-दूरी कर दिया मावरा-ए-वस्ल-ओ-हिज्राँ हुस्न का इक़रार था जौहर-ए-आईना-ए-आलम बने आँसू मिरे यूँ तो सच ये है...