Waseem Barelvi

Mohabbat Naa Samajh Hotii Hai Samjhaanaa Zaruurii Hai Waseem Barelvi Ghazals

मोहब्बत ना-समझ होती है समझाना ज़रूरी है जो दिल में है उसे आँखों से कहलाना ज़रूरी है उसूलों पर जहाँ आँच आए टकराना ज़रूरी है जो ज़िंदा हो तो फिर ज़िंदा नज़र आना ज़रूरी है नई उम्रों की ख़ुद-मुख़्तारियों को कौन समझाए कहाँ से बच के चलना है कहाँ जाना ज़रूरी है थके-हारे परिंदे जब बसेरे के लिए लौटें सलीक़ा-मंद शाख़ों का लचक जाना ज़रूरी है बहुत बेबाक आँखों में तअ’ल्लुक़ टिक नहीं पाता मोहब्बत में...

Zaraa Saa Qatra Kahiin Aaj Agar Ubhartaa Hai Waseem Barelvi Ghazals

ज़रा सा क़तरा कहीं आज अगर उभरता है समुंदरों ही के लहजे में बात करता है खुली छतों के दिए कब के बुझ गए होते कोई तो है जो हवाओं के पर कतरता है शराफ़तों की यहाँ कोई अहमियत ही नहीं किसी का कुछ न बिगाड़ो तो कौन डरता है ये देखना है कि सहरा भी है समुंदर भी वो मेरी तिश्ना-लबी किस के नाम करता है तुम आ गए हो तो कुछ चाँदनी सी बातें हों ज़मीं पे चाँद कहाँ रोज़ रोज़ उतरता है ज़मीं की कैसी वकालत हो फिर नहीं...

Mujhe To Qatra Hii Honaa Bahut Sataataa Hai Waseem Barelvi Ghazals

मुझे तो क़तरा ही होना बहुत सताता है इसी लिए तो समुंदर पे रहम आता है वो इस तरह भी मिरी अहमियत घटाता है कि मुझ से मिलने में शर्तें बहुत लगाता है बिछड़ते वक़्त किसी आँख में जो आता है तमाम उम्र वो आँसू बहुत रुलाता है कहाँ पहुँच गई दुनिया उसे पता ही नहीं जो अब भी माज़ी के क़िस्से सुनाए जाता है उठाए जाएँ जहाँ हाथ ऐसे जलसे में वही बुरा जो कोई मसअला उठाता है न कोई ओहदा न डिग्री न नाम की तख़्ती मैं रह रहा...

Zindagii Tujh Pe Ab Ilzaam Koii Kyaa Rakkhe Waseem Barelvi Ghazals

ज़िंदगी तुझ पे अब इल्ज़ाम कोई क्या रक्खे अपना एहसास ही ऐसा है जो तन्हा रक्खे किन शिकस्तों के शब-ओ-रोज़ से गुज़रा होगा वो मुसव्विर जो हर इक नक़्श अधूरा रक्खे ख़ुश्क मिट्टी ही ने जब पाँव जमाने न दिए बहते दरिया से फिर उम्मीद कोई क्या रक्खे आ ग़म-ए-दोस्त उसी मोड़ पे हो जाऊँ जुदा जो मुझे मेरा ही रहने दे न तेरा रक्खे आरज़ूओं के बहुत ख़्वाब तो देखो हो ‘वसीम’ जाने किस हाल में बे-दर्द ज़माना...