अनमोल दोस्त – दोस्ती शायरी

मांगी थी दुआ हमने रब से,
मुझे दोस्त दो जो अलग हो सबसे,
उसने मिला दिया हमें आपसे,
और कहा संभालो इसे ये अनमोल है सबसे।

- दोस्ती शायरी

Related Post

खूबसूरत सा एक पल किस्सा बन जाता है,जाने कब कौन जिंदगी का हिस्सा बन जाता है,कुछ लोग ऐसे भी मिलते हैं जिंदगी में,जिनसे कभी न टूटने वाला रिश्ता बन जाता है। दोस्ती शायरी

बरसों बाद न जाने क्या समां होगा,हमसब दोस्तों में न जानें कौन कहाँ होगा,अगर मिलना हुआ तो मिलेंगें ख्वाबों में,जैसे सूखे हुये गुलाब मिलते हैं किताबों में। दोस्ती शायरी

उदास हो जाओ तो मेरी हँसी माँग लेना,अगर ग़म हों तो मेरी ख़ुशी माँग लेना,रब आपको लम्बी उम्र दे जीने के लिए,एक पल भी कम पड़े तो मेरी जिंदगी माँग लेना। दोस्ती शायरी

ऐ ‪‎दोस्त‬ अब क्या( मनीष नोखवाल द्वारा दिनाँक 21-10-2016 को प्रस्तुत )ऐ ‪‎दोस्त‬ अब क्या लिखूं तेरी ‪‎तारीफ‬ में,बड़ा ‪‎खास‬ है तू मेरी ‪‎जिंदगी‬ में। - दोस्ती शायरी

हम तो पतझड़ में भी बहार ले आएंगे,हम गहरी उदासी में भी प्यार ले आएंगे,दोस्तों आप एक बार दिल से आवाज़ तो दो,हम तो आपके लिए मौत से भी साँसे उधार ले आएंगे। दोस्ती शायरी

कुछ ऐसा है रिश्ता( रवि कुमार द्वारा दिनाँक 24-11-2016 को प्रस्तुत )कुछ सितारों की चमक नहीं जाती,कुछ यादों की खनक नहीं जाती,कुछ लोगों से होता है ऐसा रिश्ता,कि दूर रहके भी उनकी महक नहीं जाती।...

leaf-right
leaf-right