आँखें भी मेरी पलकों -इंतज़ार शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

आँखें भी मेरी पलकों से सवाल करती हैं,हर वक़्त आपको ही बस याद करती हैं,जब तक ना कर लें दीदार आपका,तब तक वो आपका इंतज़ार करती हैं।

इंतज़ार शायरी

Related Post

आज तक है उसके लौट आने की( एडमिन द्वारा दिनाँक 14-06-2015 को प्रस्तुत )आज तक है उसके लौट आने की उम्मीद,आज तक ठहरी है ज़िंदगी अपनी जगह,लाख ये चाहा कि उसे भूल जाये पर,हौंसले अपनी...

शायरी इंतज़ार के लम्हे( नितेश विश्वकर्मा द्वारा दिनाँक 24-03-2019 को प्रस्तुत )इंतज़ार के लम्हे भी कितने अजीब होते हैंसीने की जगह आँखों में दिल धड़कता है। - इंतज़ार शायरी

आपकी जुदाई भी हमें प्यार करती है,आपकी यादें भी हमे बेकरार करती है,आते जाते यूँ ही हो जाए मुलाकात आपसे,तलाश आपको ये नजर बार बार करती है। - इंतज़ार शायरी

ग़जब किया तेरे वादे पे( एडमिन द्वारा दिनाँक 14-06-2015 को प्रस्तुत )ग़जब किया तेरे वादे पर एतबार किया ,तमाम रात किया क़यामत का इंतज़ार किया। - इंतज़ार शायरी

कोई शाम आती है आपकी याद ( एडमिन द्वारा दिनाँक 14-06-2015 को प्रस्तुत )कोई शाम आती है आपकी याद लेकर,कोई शाम जाती है आपकी याद देकर,हमें तो इंतज़ार है उस हसीन शाम का,जो आये कभी...

ता फिर न इंतज़ार में नींद आये उम्र भर,आने का अहद कर गये आये जो ख्वाब में। इंतज़ार शायरी

leaf-right
leaf-right