आईने कुर्बान किये -बेवफा शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

हसीं चेहरों के लिए आईने कुर्बान किये हैं,इस शौक में अपने बड़े नुकसान किये हैं,​महफ़िल में मुझे गालियाँ देकर है बहुत खुश​,जिस शख्स पर मैंने बड़े एहसान किये है।

बेवफा शायरी

Related Post

खुश हूँ कि मुझको जला के तुम हँसे तो सही,मेरे न सही - किसी के दिल में बसे तो सही। बेवफा शायरी

बेवफा हो जाओगे( अनुराग अग्रवाल द्वारा दिनाँक 26-02-2019 को प्रस्तुत )अपने तजुर्बे की आज़माइश की ज़िद थी,वर्ना हमको था मालूम कि तुम बेवफा हो जाओगे। - बेवफा शायरी

वो बेवफा हर बात पे देता है परिंदों की मिसाल,साफ साफ नहीं कहता मेरा शहर छोड़ दो। - बेवफा शायरी

मैंने कुछ इस तरह से खुद को संभाला है,तुझे भुलाने को दुनिया का भरम पाला है,अब किसी से मुहब्बत मैं कर नहीं पाता,इसी सांचे में एक बेवफा ने मुझे ढाला है। - बेवफा शायरी

कह दिया बेवफा( रोमियो राज द्वारा दिनाँक 11-12-2017 को प्रस्तुत )मुझे उसके आँचल का आशियाना न मिला,उसकी ज़ुल्फ़ों की छाँव का ठिकाना न मिला,कह दिया उसने मुझको ही बेवफा...मुझे छोड़ने के लिए कोई बहाना न...

हमने चाहा था जिसे उसे दिल से भुलाया न गया,जख्म अपने दिल का लोगों से छुपाया न गया,बेवफाई के बाद भी प्यार करता है दिल उनसे, कि बेवफाई का इल्ज़ाम भी उस पर लगाया न...

leaf-right
leaf-right