आशिक़ मरते नहीं -मौत शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

आशिक़ मरते नहीं सिर्फ दफनाए जाते हैं,कब्र खोद कर देखो इंतज़ार में पाए जाते हैं।

मौत शायरी

Related Post

कितना दर्द है दिल( अमित व्यास द्वारा दिनाँक 23-06-2016 को प्रस्तुत )कितना दर्द है दिल में दिखाया नहीं जाता,किसी की बर्बादी का किस्सा सुनाया नहीं जाता,एक बार जी भर के देख लो इस चेहरे को,क्योंकि...

मौत के दिन मुलाकात( आज़ान दानिश द्वारा दिनाँक 16-06-2017 को प्रस्तुत )इंतज़ार है हमें तो बस अपनी मौत का,उनका वादा है कि उस दिन मुलाकात होगी। - मौत शायरी

एक दिन निकला सैर को मेरे दिल में कुछ अरमान थे,एक तरफ थी झाड़ियाँ - एक तरफ श्मशान थे,पैर तले इक हड्डी आई उसके भी यही बयान थे,चलने वाले संभल कर चलना हम भी कभी...

यूँ तो हादसों में गुजरी है हमारी ज़िंदगी,हादसा ये भी कम नहीं कि हमें मौत ना मिली। मौत शायरी

कितना दर्द है दिल में दिखाया नहीं जाता,किसी की बर्बादी का किस्सा सुनाया नहीं जाता,एक बार जी भर के देख लो इस चेहरे को,क्योंकि बार बार कफ़न उठाया नहीं जाता। मौत शायरी

अपनी मौत का पैगाम( आर्यन वर्मा द्वारा दिनाँक 12-06-2016 को प्रस्तुत )रूह ए इश्क़ का अंजाम तो देखोअपनी मौत का पैगाम तो देखो,खुदा खुद लेने आया है जमीन परये टूटे दिल का इनाम तो देखो।...

leaf-right
leaf-right