आ जाओ किसी रोज -रोमांटिक शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

आ जाओ किसी रोज तुम्हारी रूह में उतर जाऊँ,साथ रहूँ मैं तुम्हारे न किसी और को नज़र आऊँ,चाहकर भी मुझे छू न सके कोई इस तरह,तुम कहो तो यूँ तुम्हारी बाहों में बिखर जाऊँ।

रोमांटिक शायरी

Related Post

तुम बयाँ करते( एडमिन द्वारा दिनाँक 04-11-2016 को प्रस्तुत )मजा आता अगर गुजरी हुई बातों का अफसाना,कहीं से तुम बयाँ करते, कहीं से हम बयाँ करते। - रोमांटिक शायरी

कब तक वो मेरा होने से इंकार करेगा,खुद टूट कर वो एक दिन मुझसे प्यार करेगा,इश्क़ की आग में उसको इतना जला देंगे,कि इज़हार वो मुझसे सर-ए-बाजार करेगा। - रोमांटिक शायरी

मुझे सहल हो गई मंजिलें वोहवा के रुख भी बदल गये, रोमांटिक शायरी

एक बार मुलाकात( सद्दाम हुसैन द्वारा दिनाँक 26-02-2017 को प्रस्तुत )सूखी पड़ी है दिल की ज़मीं मुद्दतों से यार,बनके घटाएं प्यार की बरसात कीजिये।एक बार अकेले में मुलाकात कीजिये।हिलने ना पाए होंठ और कह जाए...

खुद-ब-खुद शामिल हो गए तुम मेरी साँसों में,हम सोच के करते तो फिर मोहब्बत न करते। - रोमांटिक शायरी

जी चाहे की दुनिया की हर एक फ़िक्र भुला कर,दिल की बातें सुनाऊं तुझे मैं पास बिठाकर। रोमांटिक शायरी

leaf-right
leaf-right