इश्क ने बरबाद किया – इश्क़ शायरी – इश्क़ शायरी

  • By Admin

  • February 27, 2022

इश्क ने बरबाद किया

बहती हुई आँखों की रवानी में मरे हैं,
कुछ ख्वाब मेरे ऐन जवानी में मरे हैं,
इस इश्क ने आखिर हमें बरबाद किया है,
हम लोग इसी खौलते पानी में मरे हैं,
कब्रों में नहीं हमको किताबों में उतारो,
हम लोग मोहब्बत की कहानी में मरे हैं।

- इश्क़ शायरी

Related Post

इश्क है वही जो( एडमिन द्वारा दिनाँक 21-10-2016 को प्रस्तुत )इश्क है वही जो हो एक तरफा,इजहार-ए-इश्क तो ख्वाहिश बन जाती है,है अगर इश्क तो आँखों में दिखाओ,जुबां खोलने से ये नुमाइश बन जाती है।...

तजुर्बा एक ही काफी था बयान करने के लिए,मैंने देखा ही नहीं इश्क़ दोबारा करके। इश्क़ शायरी

उसी से पूछ लो उसके इश्क की कीमत,हम तो बस भरोसे पे बिक गए। - इश्क़ शायरी

फ़रिश्ते ही होंगे जिनका हुआ इश्क मुकम्मल,इंसानों को तो हमने सिर्फ बर्बाद होते देखा है। इश्क़ शायरी

किसी का इश्क़ किसी का ख्याल थे हम भी,गए दिनों में बहुत बा-कमाल थे हम भी। - इश्क़ शायरी

यह मेरा इश्क़ था( Admin द्वारा दिनाँक 23-09-2015 को प्रस्तुत )यह मेरा इश्क़ था या फिर दीवानगी की इन्तहा,कि तेरे ही करीब से गुज़र गए तेरे ही ख्याल से । - इश्क़ शायरी

leaf-right
leaf-right