इश्क़ मुक़द्दर है -इश्क़ शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

इश्क़ तो बस मुक़द्दर है कोई ख्वाब नहीं,ये वो मंज़िल है जिस में सब कामयाब नहीं,जिन्हें साथ मिला उन्हें उँगलियों पर गिन लो,जिन्हें मिली जुदाई उनका कोई हिसाब नहीं।

इश्क़ शायरी

Related Post

सीने में जलन आँखों में तूफ़ान क्यों होता है,इस आशिकी में हर आदमी परेशान क्यों होता है। इश्क़ शायरी

मत किया कीजिये दिन केउजालों की ख्वाहिशें, - इश्क़ शायरी

बहती हुई आँखों की रवानी में मरे हैं,कुछ ख्वाब मेरे ऐन जवानी में मरे हैं,इस इश्क ने आखिर हमें बरबाद किया है,हम लोग इसी खौलते पानी में मरे हैं,कब्रों में नहीं हमको किताबों में उतारो,हम...

किसी का इश्क़ किसी का ख्याल थे हम भी,गए दिनों में बहुत बा-कमाल थे हम भी। इश्क़ शायरी

जब्त से काम लिया दिल ने तो क्या फक्र करूँ,इसमें क्या इश्क की इज्ज़त थी कि रुसवा न हुआ,वक्त फिर ऐसा भी आया कि उससे मिलते हुए,कोई आँसू भी ना गिरा कोई तमाशा ना हुआ।...

दो बातें उनसे की( एडमिन द्वारा दिनाँक 22-04-2015 को प्रस्तुत )दो बातें उनसे की तो दिल का दर्द खो गया,लोगों ने हमसे पूछा कि तुम्हें क्या हो गया,बेकरार आँखों से सिर्फ हँस के हम रह...

leaf-right
leaf-right