इश्क़ से पहचान से पहले -इश्क़ शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

इक बात कहूँ इश्क़ बुरा तो नहीं मानोगे,बड़ी मौज के थे दिन, तुमसे पहचान से पहले।

इश्क़ शायरी

Related Post

मेरी किस्मत में है एक दिन गिरफ्तार-ए-वफ़ा होना,मेरे चेहरे पे तेरे प्यार का इलज़ाम लिखा है। इश्क़ शायरी

इश्क़ की किस्मत( एडमिन द्वारा दिनाँक 12-07-2017 को प्रस्तुत )इसमें इश्क़ की किस्मत भी बदल सकती थी,जो वक़्त बीत गया मुझको आजमाने में। - इश्क़ शायरी

जो मिला मुसाफ़िर वो रास्ते बदल डाले,दो क़दम पे थी मंज़िल फ़ासले बदल डाले। इश्क़ शायरी

शायरी उसी के लबों पर सजती है साहेब,जिसकी आँखों में इश्क रोता हो। - इश्क़ शायरी

खतम हो गई कहानी,बस कुछ अलफाज बाकी हैं,एक अधूरे इश्क कीएक मुकम्मल सी याद बाकी है। इश्क़ शायरी

जिसे भी देखा रोते हुए पाया मैंनेमुझे तो ये मोहब्बत - किसी फ़कीर की बददुया लगती है । इश्क़ शायरी

leaf-right
leaf-right