इस आशिकी में -इश्क़ शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

सीने में जलन आँखों में तूफ़ान क्यों होता है,इस आशिकी में हर आदमी परेशान क्यों होता है।

इश्क़ शायरी

Related Post

जा और कोई ज़ब्त की दुनिया तलाश करऐ इश्क़ हम तो अब तेरे काबिल नहीं रहे। इश्क़ शायरी

इश्क़ की बाजी( अंकित मिश्रा द्वारा दिनाँक 10-04-2017 को प्रस्तुत )लगाके इश्क़ की बाजी सुना है दिल दे बैठे हो,मुहब्बत मार डालेगी अभी तुम फूल जैसे हो। - इश्क़ शायरी

तेरा मेरा इश्क है( एडमिन द्वारा दिनाँक 04-10-2015 को प्रस्तुत )तेरा मेरा इश्क है ज़माने से कुछ जुदाएक तुम्हारी कहानी है लफ्जों से भरीएक मेरा किस्सा है ख़ामोशी से भरा। - इश्क़ शायरी

जा और कोई ज़ब्त की दुनिया तलाश करऐ इश्क़ हम तो अब तेरे काबिल नहीं रहे। - इश्क़ शायरी

भटक जाते हैं लोग अक्सरइश्क़ की गलियों में,इस सफर का कोई इकनक्शा तो होना चाहिए। इश्क़ शायरी

बीमारे-इश्क को आराम( इमरान कबीर द्वारा दिनाँक 27-04-2017 को प्रस्तुत )गजल-ए-उल्फत पढ़ लिया करो,एक खुराक सुबह एक खुराक शाम,ये वाहिद दवा है जिससे,बीमारे-इश्क को मिलता है तुरंत आराम। - इश्क़ शायरी

leaf-right
leaf-right