उधार ले-ले कर खाया -फनी शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

इस कदर उधार ले-ले कर खाया है हमने - कि दुकानदार भी हमारी ज़िन्दगी की दुआ करते हैं!

फनी शायरी

Related Post

मैं और मेरी तन्हाई - अक्सर ये बातें करते हैं,तुम होती तो ऐसा होता - तुम होती तो वैसा होता - और अगर तुम न होती तो - - अपने पास भी पैसा होता। फनी...

आसमान जितना नीला है,सूरजमुखी जितना पिला है,पानी जितना गीला है,आपका स्क्रू उतना ही ढीला है। फनी शायरी

प्यार मोहब्बत तो सब धोखा है,पढ़ाई कर लो बेटा अभी मौका है। फनी शायरी

आशिक पागल हो जाते( एडमिन द्वारा दिनाँक 16-10-2015 को प्रस्तुत )आशिक पागल हो जाते हैं प्यार में,बाकी कसर पूरी हो जाती है इंतज़ार में,मगर ये दिलरुबा नहीं समझती,वो तो गोल गप्पे और पपड़ीखाती फिरती है...

ग़म क्या चीज है?( गीत सिंह द्वारा दिनाँक 11-01-2019 को प्रस्तुत )तुम्हें क्या पता गम क्या होता है,तुम्हें क्या पता गम किसे कहते हैं,तुम्हें क्या पता गम क्या चीज है,क्यूंकि...तुमने तो हमेशा थूक से चिपकाया...

तुम्हें क्या पता गम क्या होता है,तुम्हें क्या पता गम किसे कहते हैं,तुम्हें क्या पता गम क्या चीज है,क्यूंकि...तुमने तो हमेशा थूक से चिपकाया है! - फनी शायरी

leaf-right
leaf-right