एक तो हुस्न कयामत – तारीफ़ शायरी – तारीफ़ शायरी

  • By Admin

  • February 27, 2022

एक तो हुस्न कयामत

हुजूर लाज़िमी है महफिलों में बवाल होना,
एक तो हुस्न कयामत उसपे होठों का लाल होना।

- तारीफ़ शायरी

Related Post

ईद की तारीख मुकम्मल( एडमिन द्वारा दिनाँक 11-03-2016 को प्रस्तुत )चाँद के दीदार को तुम छत पर क्या चले आये,शहर में ईद की तारीख मुकम्मल हो गयी। - तारीफ़ शायरी

तबस्सुम भी हया भी( एडमिन द्वारा दिनाँक 26-09-2016 को प्रस्तुत )इश्वा भी है शोख़ी भी तबस्सुम भी हया भी,ज़ालिम में और इक बात है इस सब के सिवा भी। - तारीफ़ शायरी

परवाना पेशोपेश में हैजाए तो किस तरफ, तारीफ़ शायरी

हुस्न की इन्तेहाँ( एडमिन द्वारा दिनाँक 25-11-2016 को प्रस्तुत )हुस्न की ये इन्तेहाँ नहीं है तो और क्या है,चाँद को देखा है हथेली पे आफताब लिए हुए। - तारीफ़ शायरी

नाज़ुकी उसके लब की क्या कहिए,पंखुड़ी इक गुलाब की सी है। तारीफ़ शायरी

दिल में समा गई हैं क़यामत की शोख़ियाँ,दो-चार दिन रहा था किसी की निगाह में। - तारीफ़ शायरी

leaf-right
leaf-right