एक बार पुकारेंगे तुम्हें – सैड शायरी

तुम सुनो या न सुनो,
हाथ बढ़ाओ न बढ़ाओ,
डूबते-डूबते एक बार पुकारेंगे तुम्हें।

– सैड शायरी

Popular Pages