कर दिया बरबाद -सैड शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

जिंदगी जैसी एक हसीं शै को,चंद ख्वाबों ने कर दिया बरबाद,कुछ हसीनों ने कर दिया घायल,कुछ शराबों ने कर दिया बरबाद।

सैड शायरी

Related Post

रूप से अक्सर प्यार नहीं होता,मन चाहा सपना साकार नहीं होता,हर किसी पर न मर मिटना मेरे दोस्त,क्योंकि हर किसी के दिल में सच्चा प्यार नहीं होता। - सैड शायरी

कोई कहकशाँ नहीं( एडमिन द्वारा दिनाँक 31-07-2019 को प्रस्तुत )इन्ही पत्थरों पे चल कर अगर आ सको तो आओ,मेरे घर के रास्ते में कोई कहकशाँ नहीं है।~ मुस्तफ़ा ज़ैदी - सैड शायरी

मगर अब नहीं( एडमिन द्वारा दिनाँक 22-02-2019 को प्रस्तुत )कभी मैं भी तेरी मोहब्बत के नशे में था,मेरी आँख में भी खुमार था, मगर अब नहीं,कभी ये दिल बाग़-ओ-बहार था, मगर अब नहीं,तेरा ज़िक्र वजह-ए-करार...

मुझ से नाराज़ है( एडमिन द्वारा दिनाँक 25-03-2015 को प्रस्तुत )मुझ से नाराज़ है तो छोड़ दे तन्हा मुझको,ऐ ज़िन्दगी...मुझे रोज़ रोज़ तमाशा न बनाया कर। - सैड शायरी

सरे राह जो उनसे नज़र मिली,तो नक़्श दिल के उभर गए,हम नज़र मिला कर झिझक गए,वो नज़र झुका कर चले गए। सैड शायरी

मौहब्बत की मिसाल( एडमिन द्वारा दिनाँक 14-10-2015 को प्रस्तुत )मौहब्बत की मिसाल में, बस इतना ही कहूँगा ।बेमिसाल सज़ा है, किसी बेगुनाह के लिए । - सैड शायरी

leaf-right
leaf-right