काश तू इतनी सी – काश शायरी

काश तू इतनी सी मोहब्बत निभा दे,
जब भी मैं रूठूँ तो तू मुझे मना ले।

- काश शायरी

Related Post

काश हम आदत होते( एडमिन द्वारा दिनाँक 13-07-2017 को प्रस्तुत )बरसों बाद भी तेरी जिद की आदत नहीं बदली,काश हम मोहब्बत नहीं... तेरी आदत होते। - काश शायरी

तेरे हुस्न पे तारीफों भरी किताब लिख देता,काश... तेरी वफ़ा तेरे हुस्न के बराबर होती । - काश शायरी

काश तुम मिल जाते बस एक पल के लिए,तो हम यूँ ना तड़पते जिंदगी भर के लिए। काश शायरी

मैं रोना ही छोड़ दूँ( गौतम गुप्ता द्वारा दिनाँक 14-10-2017 को प्रस्तुत )काश तू मेरे आँखों का आंसू बन जाये,मैं रोना ही छोड़ दूँ तुझे खोने के डर से। - काश शायरी

काश कहीं से मिल जाते वो अल्फ़ाज़ हमें भी,जो तुझे बता सकते कि हम शायर कम तेरे आशिक ज्यादा हैं। - काश शायरी

काश... एक ख्वाहिश पूरी हो इबादत के बगैर,वो आकर गले लगा ले, मेरी इजाजत के बगैर। - काश शायरी

leaf-right
leaf-right