कैसे समेट पायेगी -हर्ट टचिंग लाइन

  • By Admin

  • October 31, 2021

वो कैसे समेट पायेगी खुद को,ज़र्रे-ज़र्रे से मेरे जब निकाली जाएगी।

हर्ट टचिंग लाइन

Related Post

निकले हम दुनिया की भीड़ में तो पता चला,कि हर वो शख्स अकेला है जो दूसरों पर भरोसा करता है। - हर्ट टचिंग लाइन

कैसी बन गयी ये ज़िन्दगी,न ठीक से जीने देती है न मरती है,बस रुक गयी है एक पल में,वक़्त तो बीतता जाता है,पर हम वहीं के वहीं ठहरे हैं। हर्ट टचिंग लाइन

न जाने ये कैसी उम्मीद जगी है,न जाने कब उसने दिल पे दस्तक दे दी है,ऐ खुदा बस एक दुआ है तुझसे,अगर वो है मेरी सच्ची मोहब्बत,तो रहे हमेशा साथ मेरे - कुछ अपने दिल...

जीत किसके लिए( एडमिन द्वारा दिनाँक 24-09-2016 को प्रस्तुत )जीत किसके लिए हार किसके लिए,ज़िंदगी भर ये तकरार किसके लिए,जो भी आया है वो जायेगा एक दिन,फिर ये इतना अहंकार किसके लिए। - हर्ट टचिंग...

उल्फत बदल गई कभी नीयत बदल गई,खुदगर्ज़ जब हुए तो फिर सीरत बदल गई,कुछ लोग अपना कसूर दूसरों पे डाल कर,ये सोचते हैं कि उनकी हकीक़त बदल गई। - हर्ट टचिंग लाइन

दर्द और दौलत( एडमिन द्वारा दिनाँक 21-10-2015 को प्रस्तुत )दर्द कितना खुशनसीब हैजिसे पा कर लोग अपनों को याद करते हैं,दौलत कितनी बदनसीब हैजिसे पा कर लोग अक्सर अपनों को भूल जाते है । -...

leaf-right
leaf-right