क्या बताऊँ हाल – दर्द शायरी

क्या बताऊँ अपना हाल ए दिल मैं तुम्हें,
देखूं जिधर बस एक ही नूर नज़र आये,
अब बता भी दो दवा ए दर्द क्या है इसकी,
या फिर किसी जाल में फसाया है तुमने हमें।

- दर्द शायरी

Related Post

आ गई फिर वही एक औरअशिक की बरबादी की तारीख।यही दिन था वह जब दिल टूटाऔर मोहब्बत क़त्ल सरेआम हुई थी। - दर्द शायरी

दर्द दिल में उठा है( ताज़िम अशरफी द्वारा दिनाँक 11-06-2018 को प्रस्तुत )इलाज इश्क का क्या है हमें बताये कोई,जो दर्द दिल में उठा है उसे मिटाए कोई,तलाश उसकी मुझे हर जगह रहती है,मिलेगा मुझको...

दर्द को छुपाए बैठा( सौरव वर्मा द्वारा दिनाँक 06-03-2016 को प्रस्तुत )दर्द को छुपाए बैठा रहा,आंखों की नमी को छुपाए बैठा रहा,उम्मीद टूटी नहीं है अभी भी,तेरे लौट आने की खुशी में बैठा रहा। -...

यूँ तो हमेशा के लिए यहाँ आता नहीं कोई,पर आप जिस तरह से गए वैसे जाता नहीं कोई। दर्द शायरी

तू तब तक रूला सकती है हमें,जब तक हम दिल मे बसाये हैं तुझे. दर्द शायरी

कोइ इस दर्द-ए-दिल की दवा ला दो मुझे,किसी पे ऐतबार न करूँ वो हुनर सिखा दो मुझे,वैसे मैं हर एक खेल का शौक रखता हूँ,दिलों से खेलना भी कोई सिखा दो मुझे। - दर्द शायरी

leaf-right
leaf-right