खामोशी से गुजरी जिन्दगी -शिक़वा शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

खामोशी से गुजरी जा रही है जिन्दगी,ना खुशियों की रौनक ना गमों का कोई शोर ।आहिस्ता ही सही पर कट जायेगा ये सफ़र,पर ना आयेगा दिल में उसके सिवा कोई और ।

शिक़वा शायरी

Related Post

न चाहत न मोहब्बत( एडमिन द्वारा दिनाँक 03-11-2015 को प्रस्तुत )न चाहत न मोहब्बत न इश्क़ और न वफ़ा,कुछ भी तो नहीं था उसके पास इक हुस्न के सिवा। - शिक़वा शायरी

वो मायूसी के लम्हों में ज़रा भी हौसला देता,तो हम कागज़ की कश्ती पे समंदर में उतर जाते। शिक़वा शायरी

क्या बताऊ कैसे खुद को( एडमिन द्वारा दिनाँक 16-06-2015 को प्रस्तुत )क्या बताऊ कैसे खुद को दरबदर मैंने किया,उम्र भर किस किस के हिस्से का सफ़र मैंने किया,तू तो नफरत भी न कर पायेगा इस...

सुनो एक बार( ज़ाहिद खान द्वारा दिनाँक 19-02-2015 को प्रस्तुत )सुनो एक बार और मोहब्बत करनी है तुमसे,लेकिन इस बार बेवफाई हम करेंगे। - शिक़वा शायरी

औरों के पास जा के( एडमिन द्वारा दिनाँक 03-07-2015 को प्रस्तुत )औरों के पास जा केमेरी दास्तान न पूछ...कुछ तो मेरे चेहरे पेलिखा हुआ भी देख । - शिक़वा शायरी

ये तेरा खेल न बन जाएहक़ीकत एक दिन.. - शिक़वा शायरी

leaf-right
leaf-right