ख्वाहिश तो ना थी – दर्द शायरी

ख्वाहिश तो ना थी किसी से दिल लगाने की,
मगर जब किस्मत में ही दर्द लिखा था...तो मोहब्बत कैसे ना होती।

- दर्द शायरी

Related Post

दर्द तो बहुत है दिल मेंपर दिखा नही सकते,करते है मोहब्बत तुमसेपर बता नही सकते। - दर्द शायरी

मेरी जिंदगी की कहानी( मीनाक्षी शर्मा द्वारा दिनाँक 13-07-2017 को प्रस्तुत )मेरी जिंदगी की कहानी भी बड़ी मशहूर हुई,जब मैं भी किसी के ग़म में चूर हुई,मुझे इस दर्द के साथ जीना पड़ा,कुछ इस कदर...

धीरे धीरे से अब तेरे प्यार का दर्द कम हुआ,ना तेरे आने के खुशी ना तेरे जाने का गम हुआ,जब लोग मुझसे पूछते हैं हमारे प्यार की दास्तान,कह देता हूँ एक फसाना था जो अब...

हाल-ए-दिल अब बताना मुश्किल हुआ,दर्द-ए-दिल अब छुपाना मुश्किल हुआ। दर्द शायरी

जब किसी का दर्द हद से गुजर जाता हैतो समंदर का पानी आँखों में उतर आता है,कोई बना लेता है रेत से आशियाना तो,किसी का लहरों में सबकुछ बिखर जाता है। - दर्द शायरी

चलो उनको मोहब्बत का खिताब दिया जाये,कि उनके दिए हर ज़ख्म का हिसाब किया जाये। दर्द शायरी

leaf-right
leaf-right