गुजर गयी जिंदगी – जिंदगी शायरी

अजीब तरह से गुजर गयी मेरी जिंदगी,
सोचा कुछ,
किया कुछ,
हुआ कुछ,
मिला कुछ।

- जिंदगी शायरी

Related Post

जिंदगी तेरा प्यार मिला( एडमिन द्वारा दिनाँक 23-12-2017 को प्रस्तुत )ज़िन्दगी जिसको तेरा प्यार मिला वो जाने,हम तो नाकाम ही रहे चाहने वालों की तरह। - जिंदगी शायरी

आहिस्ता चल ऐ ज़िंदगीकुछ क़र्ज़ चुकाने बाकी हैं,कुछ दर्द मिटाने बाकी हैंकुछ फ़र्ज़ निभाने बाकी हैं। जिंदगी शायरी

समझ जाता हूँ मीठे लफ़्ज़ों में छुपे फरेब को,ज़िन्दगी तुझे समझने लगा हूँ आहिस्ता आहिस्ता। - जिंदगी शायरी

मौत से कैसा डर - मिनटों का खेल है,आफत तो जिंदगी है बरसों चला करती है। जिंदगी शायरी

शायरी शुक्रिया ज़िंदगी( एडमिन द्वारा दिनाँक 22-12-2015 को प्रस्तुत )इतनी ठोकरें देने के लिए शुक्रिया ऐ ज़िन्दगी,चलने का न सही सँभलने का हुनर तो आ गया। - जिंदगी शायरी

बारिश में रख दूँ जिंदगी कोताकि धुल जाए पन्नो की स्याही,ज़िन्दगी फिर से लिखने कामन करता है कभी-कभी। जिंदगी शायरी

leaf-right
leaf-right