चमन में उदासी -हिंदी उर्दू ग़ज़ल

  • By Admin

  • October 31, 2021

इस चमन में उदासी बनी रह गयी,तुम न आये , तुम्हारी कमी रह गयी।हसरतों में जिया फिर भी अफ़सोस है,जुस्तजू दुआओं की बची रह गयी।दिल जलाने से फुर्सत कहाँ थी उसे,शम्मा जो थी बुझी वो बुझी रह गयी।जो मिला था बसर के लिये कम न था,पर ज़रूरत नयी कुछ लगी रह गयी।पत्थरों के दिलों में नमी देखिये,जो उगी घास थी वो हरी रह गयी।जिस नज़र की हिमायत में तुम थे सदा,वो नज़र तो झुकी की झुकी रह गयी।ओस के चंद कतरों से होता भी क्या,प्यास जैसी थी वैसी ही रह गयी।

हिंदी उर्दू ग़ज़ल

Related Post

खुद को इतना भी मत बचाया कर,बारिशें हो तो भीग जाया कर,चाँद लाकर कोई नहीं देगा,अपने चेहरे से जगमगाया कर,दर्द आँखों से मत बहाया कर,काम ले कुछ हसीन होंठो से,बातों-बातों में मुस्कुराया कर,धूप मायूस लौट...

हमने तो अपनी ज़िन्दगी तमाम कर दी,अपनी तो हर साँस उनके नाम कर दी। - हिंदी उर्दू ग़ज़ल

कभी अकेले में( केशव झा द्वारा दिनाँक 30-05-2018 को प्रस्तुत )कभी अकेले में मिलकर झंझोड़ दूंगा उसे,जहाँ जहाँ से वो टूटा है जोड़ दूंगा उसे।मुझे छोड़ गया ये कमाल है उसका,इरादा मैंने किया था कि...

हकीक़त भी यहीं है और है फ़साना भी,मुश्किल है किसी का साथ निभाना भी। हिंदी उर्दू ग़ज़ल

जुस्तजू जिसकी थी उसको तो न पाया हमने,इस बहाने से मगर देख ली दुनिया हमने। हिंदी उर्दू ग़ज़ल

मैं तो झोंका हूँ हवाओं का उड़ा ले जाऊंगा,जागते रहना तुझे तुझसे चुरा ले जाऊंगा। - हिंदी उर्दू ग़ज़ल

leaf-right
leaf-right