चलती है गाड़ी -ट्रक शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

चलती है गाड़ी उड़ती हैं धूल,जलते हैं दुश्मन खिलते हैं फूल।

ट्रक शायरी

Related Post

धीरे चलोगे तो घर-बार मिलेगा,तेज चलोगे तो हरिद्वार मिलेगा। ट्रक शायरी

ऐ बुलबुल शोर मत कर आज ग़म की रात है,आयेंगे तेरे शहर में बस दो-चार दिन की बात है। ट्रक शायरी

न किसी के हाथ-पैर तोड़े न अपने तुड़वायें,कृपया गाड़ी धीरे और लिमिट में चलायें। - ट्रक शायरी

मैं खूबसूरत हूँ मुझे नजर न लगाना,जिंदगी भर साथ दूंगी पीकर मत चलाना। - ट्रक शायरी

चलती है गाड़ी उड़ती हैं धूल,जलते हैं दुश्मन खिलते हैं फूल। - ट्रक शायरी

ऐ बुलबुल शोर मत कर आज ग़म की रात है,आयेंगे तेरे शहर में बस दो-चार दिन की बात है। - ट्रक शायरी

leaf-right
leaf-right