चेहरा तेरा चाँद – तारीफ़ शायरी

तेरे इशारों पर मैं नाचूं क्या जादू ये तुम्हारा है,
जब से तुमको देखा है दिल बेकाबू हमारा है,
जुल्फें तेरी बादल जैसी आँख में तेरे समंदर है,
चेहरा तेरा चाँद का टुकड़ा सारे जहाँ से प्यारा है।

- तारीफ़ शायरी

Related Post

कोई तुझ सा नहीं( एडमिन द्वारा दिनाँक 30-11-2017 को प्रस्तुत )उतरा है मेरे दिल में कोई चाँद नगर से,अब खौफ ना कोई अंधेरों के सफ़र से,वो बात है तुझ में कोई तुझ सा नहीं है,कि...

बड़ा ही दिलकश अंदाज है तुम्हारा,जी करता है की फनाह हो जाऊं ।-------------------------------------- महक रही है जिंदगी आज भी जिसकी खुशबू से,वो कौन था जो यूँ गुजर गया मेरी यादों से। तारीफ़ शायरी

हम भटकते रहे थे अनजान राहों में,रात दिन काट रहे थे यूँ ही बस आहों में,अब तमन्ना हुई है फिर से जीने की हमें,कुछ तो बात है सनम तेरी इन निगाहों में। - तारीफ़ शायरी

बहारों फूल बरसाओ मेरा महबूब आया है,हवाओं रागिनी गाओ मेरा महबूब आया है। - तारीफ़ शायरी

उनको सोते हुए देखा( Admin द्वारा दिनाँक 22-09-2015 को प्रस्तुत )उनको सोते हुए देखा था दमे-सुबह कभी,क्या बताऊं जो इन आंखों ने शमां देखा था।~ अज़ीज़ लखनवी - तारीफ़ शायरी

आपको देख कर देखता( एडमिन द्वारा दिनाँक 23-02-2016 को प्रस्तुत )आपको देख कर देखता रह गया,क्या कहूँ और कहने को क्या रह गया।आते-आते मेरा नाम-सा रह गया,उस के होंठों पे कुछ काँपता रह गया।वो मेरे...

leaf-right
leaf-right