जो आँसू दिल में -सैड शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

जो आँसू दिल में गिरते हैं वो आँखों में नहीं रहते,बहुत से हर्फ़ वो होते हैं जो लफ़्ज़ों में नहीं रहते,किताबों में लिखे जाते हैं दुनिया भर के अफ़साने,मगर जिन में हकीकत हो किताबों में नहीं रहते।

सैड शायरी

Related Post

एक बार पुकारेंगे तुम्हें( एडमिन द्वारा दिनाँक 03-11-2019 को प्रस्तुत )तुम सुनो या न सुनो, हाथ बढ़ाओ न बढ़ाओ,डूबते-डूबते एक बार पुकारेंगे तुम्हें।-------------------------------------मेरे होने में किसी तौर से शामिल हो जाओ,तुम मसीहा नहीं होते हो...

वो मेरा हमसफर भी था वो मेरा राहगुजर भी था,मंजिलें ही एक न थीं, दरमियाँ ये फासला भी था। - सैड शायरी

क्यों नहीं समझते( राकेश सिंह द्वारा दिनाँक 13-01-2018 को प्रस्तुत )उनकी मुस्कान हमारी कमजोरी है,उनसे कुछ कह न पाना हमारी मजबूरी है,वो क्यों नहीं समझते हमारी ख़ामोशी को,क्या ख़ामोशी को जुबान देना जरूरी है। -...

जरा-सा झूठ ही लिख दोकि तुम बिन दिल नहीं लगता,हमारा दिल बहल जाएतो तुम फिर से मुकर जाना। - सैड शायरी

आँसू आ जाते हैं रोने से पहले,ख्वाब टूट जाते हैं सोने से पहले,लोग कहते हैं मोहब्बत गुनाह है,काश - कोई रोक लेता इसे होने से पहले । सैड शायरी

वही वहशत वही हैरत( एडमिन द्वारा दिनाँक 26-04-2019 को प्रस्तुत )वही वहशत, वही हैरत, वही तन्हाई है मोहसिन,तेरी आँखें मेरे ख़्वाबों से कितनी मिलती-जुलती हैं।~ मोहसिन नक़वी - सैड शायरी

leaf-right
leaf-right