तमाशा बना दिया -दर्द शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

कितना लुत्फ ले रहे हैं लोग मेरे दर्द-ओ-ग़म का,ऐ इश्क देख तूने तो मेरा तमाशा ही बना दिया।

दर्द शायरी

Related Post

दर्द की दीवार पर अपनी फरियाद लिखा करते है,ऐ खुदा उन्हें खुश रखना जिन्हें हम प्यार किया करते हैं। - दर्द शायरी

दर्द तो बहुत है दिल मेंपर दिखा नही सकते,करते है मोहब्बत तुमसेपर बता नही सकते। दर्द शायरी

दर्द तूफ़ान बने( एडमिन द्वारा दिनाँक 10-12-2017 को प्रस्तुत )दर्द के लम्हे कब हम पर आसान बने,जो दर्द आँसू न बन सके वो तूफ़ान बने। - दर्द शायरी

जो नजर से गुजर जाया करते हैं,वो सितारे अक्सर टूट जाया करते हैं,कुछ लोग दर्द को बयां नहीं होने देते,बस चुपचाप बिखर जाया करते हैं। - दर्द शायरी

दर्द को छुपाए बैठा( सौरव वर्मा द्वारा दिनाँक 06-03-2016 को प्रस्तुत )दर्द को छुपाए बैठा रहा,आंखों की नमी को छुपाए बैठा रहा,उम्मीद टूटी नहीं है अभी भी,तेरे लौट आने की खुशी में बैठा रहा। -...

जीत ले जो दिल( लौकुश द्वारा दिनाँक 20-12-2016 को प्रस्तुत )जीत ले जो दिल वो नजर हम भी रखते हैं,भीड़ में भी नजर आये वो असर हम भी रखते हैं,यूँ तो हमने किसी को मुस्कुराने...

leaf-right
leaf-right