तरकीब-ए-मुहब्बत पर -हिंदी उर्दू ग़ज़ल

  • By Admin

  • October 31, 2021

ना गौर कर मेरे तरकीब-ए-मुहब्बत पर,काबिल-ए-गौर हैं मेरी तहरीरें मुहब्बत पर।

हिंदी उर्दू ग़ज़ल

Related Post

कभी अकेले में( केशव झा द्वारा दिनाँक 30-05-2018 को प्रस्तुत )कभी अकेले में मिलकर झंझोड़ दूंगा उसे,जहाँ जहाँ से वो टूटा है जोड़ दूंगा उसे।मुझे छोड़ गया ये कमाल है उसका,इरादा मैंने किया था कि...

कभी अकेले में मिलकर झंझोड़ दूंगा उसे,जहाँ जहाँ से वो टूटा है जोड़ दूंगा उसे। - हिंदी उर्दू ग़ज़ल

भीग जाया कर( बीरेंद्र कुमार वर्मा द्वारा दिनाँक 15-12-2017 को प्रस्तुत )खुद को इतना भी मत बचाया कर,बारिशें हो तो भीग जाया कर,चाँद लाकर कोई नहीं देगा,अपने चेहरे से जगमगाया कर,दर्द आँखों से मत बहाया...

रुके से हम रुके से तुम( विपुल कुमार द्वारा दिनाँक 15-02-2015 को प्रस्तुत )रुके से हम रुके से तुम और ज़माना बढ़ गया,ये तेरा दिल मेरे दिल में जाने कब उतर गया ।अभी तो प्यार...

मैं खिल नहीं सका( एडमिन द्वारा दिनाँक 21-06-2015 को प्रस्तुत )मैं खिल नहीं सका कि मुझे नम नहीं मिला,साक़ी मिरे मिज़ाज का मौसम नहीं मिला ।मुझ में बसी हुई थी किसी और की महक,दिल बुझ...

मेरी रातों की राहत, दिन के इत्मिनान ले जाना,तुम्हारे काम आ जायेगा, यह सामान ले जाना। - हिंदी उर्दू ग़ज़ल

leaf-right
leaf-right