तुम्हें रातें रुलायेंगी – सैड शायरी

मेरी यादें,
मेरा चेहरा,
मेरी बातें रुलायेंगी,
हिज़्र के दौर में,
गुज़री मुलाकातें रुलायेंगी,
दिन तो चलो तुम काट भी लोगे फसानों में,
जहाँ तन्हा रहोगे तुम,
तुम्हें रातें रुलायेंगी।

– सैड शायरी

Popular Pages