तेरी चाहत का वो मौसम -हिंदी उर्दू ग़ज़ल

  • By Admin

  • October 31, 2021

तेरी चाहत का वो मौसम सुहाना याद आया है,तेरा मुस्कुरा करके वो नजरें झुकाना याद आया है,

हिंदी उर्दू ग़ज़ल

Related Post

फूल से नाजु़क होंठों से( अतुल सिंह मृदल द्वारा दिनाँक 27-03-2017 को प्रस्तुत )इन फूल से नाजु़क होंठों सेगैरों की शिकायत ठीक नहीं,बदनाम करें दिल वालों को येइनकी ये शरारत ठीक नहीं।चंचल ये तेरे दो...

अपनी आँखों के समंदर में उतर जाने दे,तेरा मुजरिम हूँ मुझे डूब के मर जाने दे । हिंदी उर्दू ग़ज़ल

उदासी का ये पत्थर आँसुओं से नम नहीं होता,हजारों जुगनुओं से भी अँधेरा कम नहीं होता। - हिंदी उर्दू ग़ज़ल

मेरी रातों की राहत, दिन के इत्मिनान ले जाना,तुम्हारे काम आ जायेगा, यह सामान ले जाना। हिंदी उर्दू ग़ज़ल

मंज़िलों तक मंज़िलों की आरज़ू रह जाएगी,कारवाँ थक जाएँ फिर भी जुस्तुजू रह जाएगी। हिंदी उर्दू ग़ज़ल

मेरी ये जिद नहीं( एडमिन द्वारा दिनाँक 21-09-2018 को प्रस्तुत )मेरी ये जिद नहीं मेरे गले का हार हो जाओ,अकेला छोड़ देना तुम जहाँ बेज़ार हो जाओ।बहुत जल्दी समझ में आने लगते हो ज़माने को,बहुत...

leaf-right
leaf-right