तेरी तस्वीर के टुकड़े -सैड शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

तेरी ये रेशमी ज़ुल्फ़ें हैं एक जंजीर के टुकड़े,मेरी नस-नस में बसे है तेरी तस्वीर के टुकड़े,अगर यकीन ना आये तो दिल चीर के दिखा दूँ,मेरे दिल से भी निकलेंगे तेरी तस्वीर के टुकड़े।

सैड शायरी

Related Post

ज़िन्दगी की कशमकश से परेशान बहुत है,दिल को न उलझाओ ये नादान बहुत है। सैड शायरी

कुछ मैं भी थक गया( एडमिन द्वारा दिनाँक 30-03-2019 को प्रस्तुत )कुछ मैं भी थक गया उसे ढूँढ़ते हुए,कुछ ज़िन्दगी के पास भी मोहलत नहीं रही,उसकी हर एक अदा से झलकने लगा खलूस,जब मुझको ऐतबार...

सिखा दी बेरुखी( एडमिन द्वारा दिनाँक 04-05-2018 को प्रस्तुत )सिखा दी बेरुखी भी तुम्हें ज़ालिम ज़माने ने,कि तुम जो सीख लेते हो हम पर आजमाते हो। - सैड शायरी

तेरी तस्वीर के टुकड़े( हीरामणि यादव द्वारा दिनाँक 04-06-2017 को प्रस्तुत )तेरी ये रेशमी ज़ुल्फ़ें हैं एक जंजीर के टुकड़े,मेरी नस-नस में बसे है तेरी तस्वीर के टुकड़े,अगर यकीन ना आये तो दिल चीर के...

हाथ मेरे भूल बैठे दस्तकें देने का फ़न,बंद मुझ पर जब से उस के घर का दरवाज़ा हुआ। - सैड शायरी

चमन में जो भी थे नाफ़िज़ उसूल उसके थे,तमाम काँटे हमारे थे और फूल उसके थे,मैं इल्तेज़ा भी करता तो किस तरह करता,शहर में फैसले सबको कबूल उसके थे। - सैड शायरी

leaf-right
leaf-right