तेरे ख्याल से फुर्सत – ख्याल शायरी

सब कुछ मिला सुकून की दौलत नहीं मिली,
एक तुझको भूल जाने की मौहलत नहीं मिली,
करने को बहुत काम थे अपने लिए मगर,
हमको तेरे ख्याल से कभी फुर्सत नहीं मिली।

- ख्याल शायरी

Related Post

​खयालों में ​उसके मैंने बिता दी ज़िंदगी सारी,​​इबादत कर नहीं पाया खुदा नाराज़ मत होना​। - ख्याल शायरी

दिल की वादी से ख़िज़ाओं का अजब रिश्ता है,फूल ताज़ा तेरी यादों के कहाँ तक रक्खूँ । ख्याल शायरी

तेरे सीने से लगकर( एडमिन द्वारा दिनाँक 14-05-2015 को प्रस्तुत )तेरे सीने से लगकर, तेरी आरजू बन जाऊँ,तेरी साँसो से मिलकर, तेरी खुशबू बन जाऊँ,फासले ना रहें कोई हम दोनों के दरमियाँ,मैं, मैं ना रहूँ,...

मुस्कुराते रहोगे तो( मनोज सिंह द्वारा दिनाँक 26-02-2015 को प्रस्तुत )मुस्कुराते रहोगे तो दुनिया आपके क़दमों में होगी,वरना आंसुओं को तो तो आँखें भी पनाह नहीं देती। - ख्याल शायरी

कट गई हयात( एडमिन द्वारा दिनाँक 05-07-2016 को प्रस्तुत )उसके बगैर भी तो अदम कट गई हयात,उसका खयाल उससे जियादा जमील था।~ अब्दुल हमीद अदम - ख्याल शायरी

था जहाँ कहना वहां कह न पाये उम्र भर,कागज़ों पर यूँ शेर लिखना बेज़ुबानी ही तो है। - ख्याल शायरी

leaf-right
leaf-right