तेरे लबो को चूम के -शरारत शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

सुना है तुम ले लेते हो बदला हर बात का,आज़माएंगे कभी तेरे लबो को चूम के - ।

शरारत शायरी

Related Post

आईने में वह देख रहे थे बहार-ए-हुस्न,आया मेरा खयाल तो शरमा के रह गए। शरारत शायरी

क्या हुआ जो मेरे लब तेरे लब से लग गए,माफ़ न करो न सही - बदला तो ले लो। शरारत शायरी

बहार-ए-हुस्न( एडमिन द्वारा दिनाँक 23-09-2018 को प्रस्तुत )आईने में वह देख रहे थे बहार-ए-हुस्न,आया मेरा खयाल तो शरमा के रह गए। - शरारत शायरी

तेरे लबो को चूम के( एडमिन द्वारा दिनाँक 23-09-2015 को प्रस्तुत )सुना है तुम ले लेते हो बदला हर बात का,आज़माएंगे कभी तेरे लबो को चूम के...। - शरारत शायरी

क्या हुआ जो मेरे लब तेरे लब से लग गए,माफ़ न करो न सही... बदला तो ले लो। - शरारत शायरी

आईने में वह देख रहे थे बहार-ए-हुस्न,आया मेरा खयाल तो शरमा के रह गए। - शरारत शायरी

leaf-right
leaf-right