दर्द बता न सकी – दर्द शायरी

दर्द इतना था मेरे दिल में मैं बता न सकी,
आँखों में आँसू थे फिर भी गिरा न सकी,
चला गया वो शख्स हमेशा के लिए,
पर मैं अपने दिल की बात बता न सकी।

- दर्द शायरी

Related Post

सब किश्तियाँ मेरी( अनिल कुमार साहू द्वारा दिनाँक 06-11-2018 को प्रस्तुत )उलटी पड़ी हैं रेत पर सब किश्तियाँ मेरी...कोई ले गया है दिल से समंदर निकाल कर।~अनिल कुमार साहू - दर्द शायरी

दर्द में जीने की हमें आदत कुछ ऐसी पड़ी,कि अब दर्द ही अपना हमदर्द लगने लगा। - दर्द शायरी

टूटे हुए काँच की तरहचकना-चूर हो गया हूँकिसी को चुभ न जाऊँइसलिए सबसे दूर हो गया हूँ। - दर्द शायरी

दर्द सुनाया करता है( एडमिन द्वारा दिनाँक 05-11-2019 को प्रस्तुत )काग़ज़ काग़ज़ हर्फ़ सजाया करता है,तन्हाई में शहर बसाया करता है,कैसा पागल शख्स है सारी-सारी रात,दीवारों को दर्द सुनाया करता है,रो देता है आप ही...

मसला ये नहीं है किदर्द कितना है, - दर्द शायरी

मेरे दर्द ने मेरे ज़ख्मों से शिकायत की है,आँसुओं ने मेरे सब्र से बगावत की है, ग़म मिला है तेरी चाहत के समंदर में,हाँ मेरा जुर्म है कि मैंने मोहब्बत की है। दर्द शायरी

leaf-right
leaf-right