दर्द से हाथ न मिलाते -दर्द शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

दर्द से हाथ न मिलाते तो और क्या करते,गम के आँसू न बहाते तो और क्या करते,उसने माँगी थी हमसे रौशनी की दुआ,हम अपना घर न जलाते तो और क्या करते।

दर्द शायरी

Related Post

मगर कुछ दर्द हैं( विशाल बाबू द्वारा दिनाँक 09-09-2018 को प्रस्तुत )तुम्हारी याद के साए मेरे दिल के अँधेरे में,बहुत तकलीफ देते हैं मुझे जीने नहीं देते,अकेली राह में हमराह कोई मिल तो जाता है,मगर...

काश उनको पता होता मेरे दर्दे दिल की चुभन,तो वो हमको बार-बार न सताया करते,जिस बात से हम उनसे रोज खफा होते हैंतो वो बात हमसे न बताया करते,ये बात भी ऐसी है जोकि कोई...

मैं जो रोया( एडमिन द्वारा दिनाँक 01-12-2016 को प्रस्तुत )एक फ़साना सुन गए एक कह गए,हम जो रोये तो मुस्कुराकर रह गए। - दर्द शायरी

आशियाँ बस गया जिनका, उन्हें आबाद रहने दो,पड़े जो दर्द भरे छाले, जिगर में यूँ ही रहने दो,कुरेदो ना मेरे दिल को, ये अर्जी है जहां वालों,छिपा है राज अब तक जो, राज को राज...

मेरी जिंदगी की कहानी भी बड़ी मशहूर हुई,जब मैं भी किसी के ग़म में चूर हुई,मुझे इस दर्द के साथ जीना पड़ा,कुछ इस कदर मैं वक़्त के हाथों मजबूर हुई। - दर्द शायरी

जख्म जब मेरे सीने के भर जाएंगे,आँसू भी मोती बन के बिखर जाएंगे,ये मत पूछना किसने दर्द दिया,वरना कुछ अपनों के चेहरे उतर जाएंगे। - दर्द शायरी

leaf-right
leaf-right