दिल की बेताबी जान ले -शिक़वा शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

भले ही राह चलते तू औरों का दामन थाम ले,मगर मेरे प्यार को भी तू थोड़ा पहचान ले,कितना इंतज़ार किया है तेरे इश्क़ में मैंने,ज़रा इस दिल की बेताबी को भी तू जान ले।

शिक़वा शायरी

Related Post

तुम बदले तो( एडमिन द्वारा दिनाँक 25-04-2015 को प्रस्तुत )तुम बदले तो मजबूरियाँ थी...हम बदले तो बेवफ़ा हो गए...। - शिक़वा शायरी

मैं क़ाबिल-ए-नफ़रत हूँ तो छोड़ दो मुझको,यूं मुझसे दिखावे की मोहब्बत ना किया करो। शिक़वा शायरी

दिमाग पर जोर डालकर गिनते होगलतियाँ मेरी,कभी दिल पर हाथ रख कर पूछनाकि कसूर किसका था। - शिक़वा शायरी

पत्थर हूँ मैं - चलो मान लिया मैंने,तुम तो हुनरमंद थे तराशा क्यूँ नहीं? शिक़वा शायरी

कभी उसने भी हमें चाहत का पैगाम लिखा था;सब कुछ उसने अपना हमारे नाम लिखा था;सुना है आज उनको हमारे जिक्र से भी नफ़रत है;जिसने कभी अपने दिल पर हमारा नाम लिखा था। शिक़वा शायरी

वो मायूसी के लम्हों में ज़रा भी हौसला देता,तो हम कागज़ की कश्ती पे समंदर में उतर जाते। शिक़वा शायरी

leaf-right
leaf-right