दिल को तसल्ली – दिल शायरी – दिल शायरी

  • By Admin

  • February 27, 2022

दिल को तसल्ली

यूँ तसल्ली दे रहे हैं हम दिल-ए-बीमार को,
जिस तरह थामे कोई गिरती हुई दीवार को।

~ क़तील शिफ़ई

- दिल शायरी

Related Post

आज फिर मौसम नम( एडमिन द्वारा दिनाँक 03-07-2015 को प्रस्तुत )आज फिर मौसम नम हुआमेरी आँखों की तरह,शायद बादलों का भी दिलकिसी ने तोड़ा होगा । - दिल शायरी

तजुर्बा कहता है( एडमिन द्वारा दिनाँक 30-07-2015 को प्रस्तुत )तजुर्बा कहता हैमोहब्बत से किनारा कर लूँ...और दिल कहता हैये तज़ुर्बा दोबारा कर लूँ। - दिल शायरी

ये तो नहीं कि तुम सा जहान में हसीन नहीं,इस दिल का क्या करूँ ये बहलता कहीं नहीं। - दिल शायरी

आँसू नहीं हैं आँख में लेकिन तेरे बगैर,तूफान छुपे हुए हैं दिले-बेकरार में। - दिल शायरी

उल्फत का अक्सर यही दस्तूर होता है,जिसे चाहो वही अपने से दूर होता है,दिल टूटकर बिखरता है इस कदर,जैसे कोई कांच का खिलौना चूर-चूर होता है। - दिल शायरी

काँच का दिल( मनुप द्वारा दिनाँक 02-11-2017 को प्रस्तुत )काश बनाने वाले ने दिल काँच का बनाया होता,दिल तोड़ने वाले के हाथों में ज़ख्म तो आया होता,जब भी वो देखता अपने हाथों की तरफ,कम से...

leaf-right
leaf-right