दिल परेशान बहुत है – सैड शायरी

ज़िन्दगी की कशमकश से परेशान बहुत है,
दिल को न उलझाओ ये नादान बहुत है।

- सैड शायरी

Related Post

प्यार की कली सब( एडमिन द्वारा दिनाँक 25-09-2015 को प्रस्तुत )प्यार की कली सब के लिए खिलती नहीं,चाह कर भी हरेक एक चीज मिलती नहीं,सच्चा प्यार किस्मत से मिलता है,पर हर एक को ऐसी किस्मत...

गुमनामी का अँधेरा कुछ इस तरह छा गया है,कि दास्ताँ बन के जीना भी हमें रास आ गया है। सैड शायरी

दिल टूटे उनके हाथ से( Admin द्वारा दिनाँक 17-10-2015 को प्रस्तुत )कोई उम्मीद नहीं थी हमें उनसे मुहब्बत की...एक ज़िद थीकि दिल टूटे तो सिर्फ उनके हाथ से टूटे । - सैड शायरी

आज बड़ी देर तक वो मोहब्बत दिखाता रहा मोहसिन,न जाने क्यों लगा कि वो मोहब्बत छोड़ जाएगा। सैड शायरी

फिर पा न सकोगे( प्रिया द्वारा दिनाँक 04-10-2017 को प्रस्तुत )खोकर हमें फिर पा न सकोगे,जहाँ हम होंगे वह आ न सकोगे,हरपल हमें महसूस तो करोगे लेकिन पर हम होंगे वहां जहाँ सेहमें फिर बुला...

बहुत ख़ास थे कभी( एडमिन द्वारा दिनाँक 25-03-2015 को प्रस्तुत )बहुत ख़ास थे कभीनज़रों में किसी के हम भी...मगर नज़रों के तकाज़ेबदलने में देर कहाँ लगती है। - सैड शायरी

leaf-right
leaf-right