दिल से मिले दिल -शिक़वा शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

दिल से मिले दिल तो सजा देते है लोग​,​प्यार के जज्बातों को डुबा देते है लोग,​दो इँसानो को मिलते कैसे देख सकते है​,जब साथ बैठे दो परिन्दो को भी उठा देते है लोग ।

शिक़वा शायरी

Related Post

बिछड़ना कबूल है( एडमिन द्वारा दिनाँक 08-08-2017 को प्रस्तुत )दिल पे बोझ लेकर तू मुलाकात को न आ,मिलना है इस तरह तो बिछड़ना कबूल है। - शिक़वा शायरी

दिल की बेताबी जान ले( एडमिन द्वारा दिनाँक 10-10-2015 को प्रस्तुत )भले ही राह चलते तू औरों का दामन थाम ले,मगर मेरे प्यार को भी तू थोड़ा पहचान ले,कितना इंतज़ार किया है तेरे इश्क़ में...

बख्शे हम भी न गए बख्शे तुम भी न जाओगे,वक्त जानता है हर चेहरे को बेनकाब करना। शिक़वा शायरी

बगैर जिसके एक पल( एडमिन द्वारा दिनाँक 08-06-2016 को प्रस्तुत )बगैर जिसके एक पल भी गुजारा नही होता,सितम तो देखिए बस वही शख्स हमारा नही होता ! - शिक़वा शायरी

पत्थरों से दुआ( दुर्गा द्वारा दिनाँक 01-02-2018 को प्रस्तुत )जब मोहब्बत को लोग खुदा मानते हैं,फिर क्यूँ प्यार करने वालों को बुरा मानते हैं,माना कि ये ज़माना पत्थर दिल है,फिर क्यूँ लोग पत्थरों से दुआ...

जब भी हो थोड़ी फुरसत,मन की बात कह दीजिये, शिक़वा शायरी

leaf-right
leaf-right