नजरें तो मिलाओ -सैड शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

मुझसे नजरें तो मिलाओ कि हजारों चेहरे,मेरी आँखों में सुलगते हैं सवालों की तरह,जुस्तजू ने किसी मंजिल पे ठहरने न दिया,हम भटकते रहे आवारा ख्यालों की तरह।

सैड शायरी

Related Post

उलझी हुई शाम( पंकज पाल द्वारा दिनाँक 10-02-2018 को प्रस्तुत )उलझी हुई शाम को पाने की ज़िद न करो,जो अपना न हो उसे अपनाने की ज़िद न करो,इस समंदर में तूफ़ान बहुत आते हैं,इसके साहिल...

एक ज़रा सी भूल( एडमिन द्वारा दिनाँक 27-06-2015 को प्रस्तुत )एक ज़रा सी भूल खता बन गयी,मेरी वफ़ा ही मेरी सजा बन गयी,दिल लिया और खेल कर तोड़ दिया,हमारी जान गयी औरउनकी अदा बन गयी..।...

तमाम रात का तूफ़ान बर्क-ओ-बाद न था,हमको ही अपने चिरागों पर ऐतमाद न था,वो तो लहू के धब्बों से पहचान बन गई,वर्ना मेरे घर का पता किसी को याद न था। सैड शायरी

जब भी वो उदास हो उसे मेरी कहानी सुना देना,मेरे हालात पर हंसना उसकी पुरानी आदत है । - सैड शायरी

क्यूँ सताते हो मुझेजहाँ में जीने की इजाजत दे दो,बड़ा ही जख्मी दिल है मेराबस कुछ पल की मुहब्बत दे दो। सैड शायरी

तेरी चाहत में रुसवा यूं सरे बाज़ार हो गये,हमने ही दिल खोया और हम ही गुनाहगार हो गये। सैड शायरी

leaf-right
leaf-right