नजरों को तेरे प्यार से -लव शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

नजरों को तेरे प्यार से इंकार नहीं है,अब मुझे किसी और का इंतज़ार नहीं है,खामोश अगर हूँ मैं तो ये वजूद है मेरातुम ये न समझना कि तुमसे प्यार नहीं है।

लव शायरी

Related Post

मेरे लबों को( एडमिन द्वारा दिनाँक 07-12-2016 को प्रस्तुत )खुदा करे वो अचानक सामने आकर, मेरे लबों को कुछ नए सवाल दे जायें। - लव शायरी

तमन्नाओं के ये दिए जलते रहेंगे,मेरी आँखों से आँसू निकलते रहेंगे,आप शमां बनके दिल में रौशनी तो करो,हम तो मोम बनकर पिघलते रहेंगे। लव शायरी

कभी क़रीब तो कभी दूर हो के रोते हैं,मोहब्बतों के भी मौसम अजीब होते हैं। - लव शायरी

पहली मोहब्बत थी मेरी हम ये जान न सके,ये प्यार क्या होता है हम पहचान न सके,हमने उन्हें दिल में बसाया है इस कदर कि,जब भी चाहा हम उसे दिल से निकाल न सके। -...

चले आओ कभी टूटी हुई चूड़ी के टुकड़े से,वो बचपन की तरह फिर से मोहब्बत नाप लेते हैं। लव शायरी

ख्वाब नहीं एहसास हो( अंकित द्विवेदी द्वारा दिनाँक 17-03-2018 को प्रस्तुत )सिर्फ ख्वाब नहीं एहसास हो तुम,मेरी किसी दुआ का जवाब हो तुम,मालूम नहीं दूँ क्या नाम तुम्हें अपने जहां में,मेरे लिए तो सारा जहां...

leaf-right
leaf-right