न नींद न ख्वाब – फनी शायरी

नींद आती है तो एक ख्वाब आता है,
ख्वाब में इक लड़की आती है,
और पीछे उसका बाप आता है,
फिर क्या...फिर न नींद आती है न ख्वाब आता है।

- फनी शायरी

Related Post

है हसरत कि हो ऐलान एक दिन,कि हजरात-ए-इश्क इन्तेकाल कर गए । फनी शायरी

लड़कियों से प्यार न करना क्योंकि,दिखती हैं हीर की तरह,लगती हैं खीर की तरह,दिल में चुभती हैं तीर की तरह,और छोड़ जाती हैं फकीर की तरह । फनी शायरी

रश्के-क़मर होता( एडमिन द्वारा दिनाँक 07-08-2018 को प्रस्तुत )काश हमारा भी कोई रश्के-क़मर होता,हम भी नजर मिलाते हमें भी मज़ा आता। - फनी शायरी

मैं और मेरी तन्हाई...अक्सर ये बातें करते हैं,तुम होती तो ऐसा होता...तुम होती तो वैसा होता...और अगर तुम न होती तो......अपने पास भी पैसा होता। - फनी शायरी

उनके बच्चे ही कम्बख्त( एडमिन द्वारा दिनाँक 20-06-2016 को प्रस्तुत )वो आज भी हमें देख कर मुस्कुराते हैं,वो आज भी हमें देख कर मुस्कुराते हैं,ये तो उनके बच्चे ही कम्बख्त हैं,जो हमें मामा-मामा बुलाते है।...

नज़रें मिली तो बेख्याल हो गए,नज़रें झुकी तो सवाल हो गए,और इतना घुमाया उसे प्यार में,शॉपिंग कराते कराते कंगाल हो गए! - फनी शायरी

leaf-right
leaf-right