न रेनकोट ना छाता -फनी शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

ये बारिश का मौसम बहुत तड़पाता है,वो बस मुझे ही दिल से चाहता है,लेकिन वो मिलने आए भी तो कैसे - ?उसके पास न रेनकोट है और ना छाता है।

फनी शायरी

Related Post

ये बारिश का मौसम बहुत तड़पाता है,वो बस मुझे ही दिल से चाहता है,लेकिन वो मिलने आए भी तो कैसे...?उसके पास न रेनकोट है और ना छाता है। - फनी शायरी

ताज महल क्या चीज( विशाल चौहान द्वारा दिनाँक 12-06-2017 को प्रस्तुत )ताज महल क्या चीज है...हम इससे भी अच्छी इमारत बनवा देंगे,शाहजहां ने मुमताज़ को मुर्दा दफनाया था,हम तुझे ज़िंदा ही दफना देंगे। - फनी...

मरना हैं तो मरो अपने वतन के लिये,क्यों मरतें हो एक दुल्हन के लिये,इश्क के गलियों में खींचकर मारे जाओगे,कोई चन्दा भी ना देगा कफन के लिये। फनी शायरी

इश्क में हम तुम्हें क्या बताएंकिस कदर चोट खाए हुए हैं,मारा था बाप ने कल उसके,आज भाई आये हुए हैं। फनी शायरी

कंगाल हो गए( पियूष गुप्ता द्वारा दिनाँक 12-11-2017 को प्रस्तुत )नज़रें मिली तो बेख्याल हो गए,नज़रें झुकी तो सवाल हो गए,और इतना घुमाया उसे प्यार में,शॉपिंग कराते कराते कंगाल हो गए! - फनी शायरी

फनी शायरी प्यार का रास्ता( परमजीत सिंह रसीला द्वारा दिनाँक 12-06-2017 को प्रस्तुत )कहते हैं कि प्यार की राहों पे चलना आसान नहीं,मैंने भी कल चल के देखा मुझे ताे रास्ता ठीक ही लगा। -...

leaf-right
leaf-right