पूरी दुनियाँ देखेगी -एटीट्यूड शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

अभी काँच हूँ इसलिए दुनिया को चुभता हूँ,जब आइना बन जाऊँगा - पूरी दुनिया देखेगी।

एटीट्यूड शायरी

Related Post

ठोकर ना लगा मुझे पत्थर नहीं हूँ मैं,हैरत से ना देख कोई मंज़र नहीं हूँ मैं,तेरी नज़र में मेरी कदर कुछ भी नही,मगर उनसे पूछ जिन्हें हासिल नही हूँ मैं. एटीट्यूड शायरी

मार ही डाले जो बे मौत, ये दुनिया वाले,हम जो जिन्दा हैं तो जीने का हुनर रखते हैं। एटीट्यूड शायरी

अगर तेवर न दिखाओ( एडमिन द्वारा दिनाँक 28-01-2019 को प्रस्तुत )तेवर न दिखाओ तो लोग आँख दिखाने लग जाते हैं।-------------------------------------हम जैसे इतिहास रचते हैं तेरे जैसे पढ़ते हैं।-------------------------------------हम अपना इक्का तभी दिखाते हैं जब सामने...

लाख तलवारे बढ़ी आती हों गर्दन की तरफ,सर झुकाना नहीं आता तो झुकाए कैसे। - एटीट्यूड शायरी

किरदार का फ़ैसला( प्राक्षी भारद्वाज द्वारा दिनाँक 30-07-2017 को प्रस्तुत )मेरे लफ्जों से न कर मेरे किरदार का फ़ैसला,तेरा वजूद मिट जायेगा मेरी हकीकत ढूंढ़ते ढूंढ़ते। - एटीट्यूड शायरी

ऊँचे आसमान से मेरी ज़मीन देख लो,तुम ख्वाब आज कोई हसीं देख लो,अगर आज़माना हैं ऐतबार को मेरे तो,एक झूठ बोलो और मेरा यकीन देख लो। एटीट्यूड शायरी

leaf-right
leaf-right