फेंका हुआ किसी का -अन्य

  • By Admin

  • October 31, 2021

फेंका हुआ किसी का,न छिना हुआ मिले,मुझे बस मेरे नसीब का,लिखा हुआ मिले,ना मिला ये भी तो कुछगम नहीं मेरे दोस्त,नसीब की ठोकर तो,हर किसी को मिलती है,मुझे बस मेरी मेहनत काकिया हुआ मिले ।

अन्य

Related Post

कुछ को ख्वाब देख केजीने की आदत है,कुछ को मैखाने मेंपीने की आदत है । अन्य

फेंका हुआ किसी का,न छिना हुआ मिले,मुझे बस मेरे नसीब का,लिखा हुआ मिले,ना मिला ये भी तो कुछगम नहीं मेरे दोस्त,नसीब की ठोकर तो,हर किसी को मिलती है,मुझे बस मेरी मेहनत काकिया हुआ मिले ।...

अपने पड़ोसियों के बर्तन चुराया जाए,मंसूबा ये है कि पैसा कमाया जाए,खुद ही काट के सारे पेड़ जंगलों के,धरती खतरे में है ये चिल्लाया जाए। अन्य

धरती खतरे में है( अरमान चुलबुल द्वारा दिनाँक 14-12-2018 को प्रस्तुत )अपने पड़ोसियों के बर्तन चुराया जाए,मंसूबा ये है कि पैसा कमाया जाए,खुद ही काट के सारे पेड़ जंगलों के,धरती खतरे में है ये चिल्लाया...

कुछ को ख्वाब( कुलदीप वत्स द्वारा दिनाँक 07-03-2015 को प्रस्तुत )कुछ को ख्वाब देख केजीने की आदत है,कुछ को मैखाने मेंपीने की आदत है ।हम हैं परेशां दीवानापनकी आदतों से,पर जाने क्यों शादी कीशहनाईयों से...

फेंका हुआ किसी का( पंकज कुमार द्वारा दिनाँक 14-07-2015 को प्रस्तुत )फेंका हुआ किसी का,न छिना हुआ मिले,मुझे बस मेरे नसीब का,लिखा हुआ मिले,ना मिला ये भी तो कुछगम नहीं मेरे दोस्त,नसीब की ठोकर तो,हर...

leaf-right
leaf-right