फैसला न हो सका -सैड शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

किस्मत बुरी या मैं बुरा - ये फैसला न हो सका,मैं हर किसी का हो गया कोई मेरा न हो सका।

सैड शायरी

Related Post

एक न एक दिन मैं ढूँढ ही लूंगा तुमको,ठोंकरें ज़हर तो नहीं कि खा भी ना सकूँ। सैड शायरी

दर्द भरी हकीकत शायरी( एडमिन द्वारा दिनाँक 28-12-2015 को प्रस्तुत )इसे इत्तेफाक समझोया दर्द भरी हकीकत,आँख जब भी नम हुई,वजह कोई अपना ही था।---------------------वक़्त बहुत कुछ, छीन लेता है...खैर मेरी तो सिर्फ़ मुस्कुराहट थी। -...

दिल में आया था वोबहुत से रास्तों से ।जाने का रास्ता न मिलातो दिल ही तोड़ दिया । सैड शायरी

हम हुए जो उदास( अखिलेश कुमार द्वारा दिनाँक 16-10-2019 को प्रस्तुत )उन्होंने हमें आजमाकर देख लिया, इक धोखा हमने भी खा कर देख लिया,क्या हुआ हम हुए जो उदास,उन्होंने तो अपना दिल बहला के देख...

मुझे वो छोड़ गया ये कमाल है उस का,इरादा मैंने किया था कि छोड़ दूँगा उसे। सैड शायरी

उन गलियों से जब गुज़रे तो मंज़र अजीब था,दर्द था मगर वो दिल के करीब था,जिसे हम ढूँढ़ते थे अपनी हाथों की लकीरों में,वो किसी दूसरे की किस्मत किसी और का नसीब था। सैड शायरी

leaf-right
leaf-right