बंद हो गई वो आँखे -मौत शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

कफ़न की गिरह खोल करमेरा दीदार तो कर लो,बंद हो गई हैं वो आँखेजिन से तुम शरमाया करती थी।

मौत शायरी

Related Post

मौत आ जाये( एडमिन द्वारा दिनाँक 26-11-2017 को प्रस्तुत )सुलगती जिंदगी से मौत आ जाये तो बेहतर है,हमसे दिल के अरमानों का अब मातम नहीं होता। - मौत शायरी

सुलगती जिंदगी से मौत आ जाये तो बेहतर है,हमसे दिल के अरमानों का अब मातम नहीं होता। - मौत शायरी

कफ़न की गिरह खोल करमेरा दीदार तो कर लो,बंद हो गई हैं वो आँखेजिन से तुम शरमाया करती थी। - मौत शायरी

कितना दर्द है दिल( अमित व्यास द्वारा दिनाँक 23-06-2016 को प्रस्तुत )कितना दर्द है दिल में दिखाया नहीं जाता,किसी की बर्बादी का किस्सा सुनाया नहीं जाता,एक बार जी भर के देख लो इस चेहरे को,क्योंकि...

कशिश तो बहुत है मेरे प्यार में,लेकिन वो पत्थर दिल पिघलता नहीं,अगर मिले खुदा तो माँगूंगी उसको,मगर ख़ुदा मरने से पहले मिलता नहीं। मौत शायरी

जिंदगी तो हमेशा से ही,बेवफा और ज़ालिम होती है मेरे दोस्त,बस एक मौत ही वफादार होती है,जो हर किसी को मिलती है। - मौत शायरी

leaf-right
leaf-right