बस एक ही दुआ -दुआ शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

ज़िंदगी में न कोई राह आसान चाहिए,न कोई अपनी ख़ास पहचान चाहिए,बस एक ही दुआ माँगते हैं रोज भगवान से,आपके चेहरे पे प्यारी सी मुस्कान चाहिए।

दुआ शायरी

Related Post

न जाने किसने पढ़ी है मेरे हक़ में दुआ,आज तबियत में जरा आराम सा है। - दुआ शायरी

जब भी तन्हाई में आपकी याद आती है,तब मेरे होंठों पर बस एक ही फ़रियाद आती है,खुदा आपको जिंदगी में हर ख़ुशी दे दे,क्योंकि हमारी ख़ुशी आपके बाद आती है। - दुआ शायरी

दुआ है मेरी( रेशमी वर्मा द्वारा दिनाँक 02-10-2018 को प्रस्तुत )दीप जलते रहें जगमगाते रहें,हम तुम्हें तुम हमें याद आते रहो,जब तक है जिंदगी दुआ है मेरी,आप फूल की तरह मुस्कुराते रहो। - दुआ शायरी

लौट आती है हर बार मेरी दुआ खाली,जाने कितनी ऊँचाई पर खुदा रहता है। - दुआ शायरी

जब कभी दिल दुआ देगा,तो नफरत को मिटा देगा,ये बेचारा इंसान क्या देगा,जो भी देगा खुदा देगा। दुआ शायरी

खुदा बुरी नज़र से( धर्मराज मीना द्वारा दिनाँक 23-08-2018 को प्रस्तुत )खुदा बुरी नज़र से बचाए आप को,चाँद सितारों से सजाए आप को,ग़म क्या होता है ये आप भूल ही जाओ,खुदा ज़िंदगी मे इतना हँसाए...

leaf-right
leaf-right