बाँध लूं दिल को – दिल शायरी – दिल शायरी

  • By Admin

  • February 27, 2022

बाँध लूं दिल को

अपने आँचल से बाँध लूं दिल को,
कहीं तेरे ख्यालों के साथ उड़ न जाये,
थाम लूँ हाथ इसका कसकर,
कहीं तेरी यादों में राह से मुड़ न जाये।

समझाउंगी इसे प्यार से,
बहलाउंगी अलग-अलग अंदाज़ से,
अपन गले से लगाकर रखूंगी इसे,
कहीं तेरे दिल से फिर न जुड़ जाये।

- दिल शायरी

Related Post

कभी पिघलेंगे पत्थर भीमोहब्बत की तपिश पाकर,बस यही सोच कर हमपत्थर से दिल लगा बैठे। - दिल शायरी

आँसू नहीं हैं आँख में लेकिन तेरे बगैर,तूफान छुपे हुए हैं दिले-बेकरार में। दिल शायरी

वो दिल ही नहीं रहे( एडमिन द्वारा दिनाँक 02-02-2019 को प्रस्तुत )तू भी खामख्वाह बढ़ रही है ऐ धूप,इस शहर में पिघलने वाले दिल ही नहीं रहे। - दिल शायरी

अपने आँचल से बाँध लूं दिल को,कहीं तेरे ख्यालों के साथ उड़ न जाये,थाम लूँ हाथ इसका कसकर,कहीं तेरी यादों में राह से मुड़ न जाये। - दिल शायरी

इस दिल ने अदा कर दिया हक होने का अपने,नफ़रत भी बहुत की है मोहब्बत भी बहुत की। - दिल शायरी

ये तो नहीं कि तुम सा जहान में हसीन नहीं,इस दिल का क्या करूँ ये बहलता कहीं नहीं। - दिल शायरी

leaf-right
leaf-right