बाप की मार से -फनी शायरी

  • By Admin

  • October 31, 2021

ना तलवार की धार से ना गोलियों की बौछार से,बंदा डरता है तो सिर्फ अपने बाप की मार से।

फनी शायरी

Related Post

हमसे मोहब्बत का दिखावा न किया कर,हमे मालुम है तेरे वफा की डिगरी फर्जी है । फनी शायरी

दिल दो किसी एक को और वो भी किसी नेक को,मंदिर का प्रसाद नहीं... जो बांट दो हर एक को। - फनी शायरी

गर्ल फ्रेंड २-4 होनी चाहिए...एक तो डायन भी थी। - फनी शायरी

तेरा प्यार भी हजार की नोट जैसा है,डर लगता है कहीं नकली तो नहीं । फनी शायरी

रहता है इबादत में हमें मौत का खटका,हम याद ख़ुदा करते हैं कर ले न ख़ुदा याद। - फनी शायरी

अंधकार के घोर तिमिर में हॅसने के बाद रुलाती है,तन्हाई और गम है साथ ये जिंदगी भी तड़पाती है,मेरी हालत भी मुझसे जलती और रूठ जाती है,जब आइंस्टीन और न्यूटन संग याद तुम्हारी आती है।...

leaf-right
leaf-right